What is the Sanskrit Language (संस्कृत भाषा क्या है)?
Sanskrit Language

What is the Sanskrit Language (संस्कृत भाषा क्या है)?

संस्कृत भाषा (Sanskrit Language)की उत्पत्ति एवं परिचय

संस्कृत भाषा (Sanskrit Language) विश्व की सबसे पुरानी भाषा है। संस्कृत भाषा, एक पुरानी इंडो-आर्यन भाषा है, जिसमें सबसे प्राचीन वेदों के दस्तावेज मौजूद हैं, जिसे वैदिक संस्कृत भी कहा जाता है। संस्कृत भाषा लगभग 3500 वर्षों के प्रलेखित इतिहास के साथ भारत की सबसे प्राचीनतम भाषा है। इसे हिन्दू धर्म की प्राथमिक साहित्यिक भाषा भी कहा जाता है।


वैदिक दस्तावेज़ मुख्यतः भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तरी मध्य क्षेत्रों और उसके तुरंत बाद के क्षेत्रों में पाए जाने वाली बोलियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। एक बहुत ही प्राचीनतम ग्रंथ – जिसमें ऋग्वेद शामिल है, इसे विद्वानों के द्वारा लगभग 1500 ईसा पूर्व में बताया गया था।

संस्कृत को सबसे व्यवस्थित और तकनीकी भाषा के रूप में भी जाना जाता है। मूलतः इसे सभी भाषाओं की जननी माना जाता है। कुछ विद्वानों का ऐसा मानना है कि दुनिया की कम से कम 97 % भाषाएँ इससे प्रभावित है। वैदिक धर्म से समन्धित सभी ग्रन्थ संस्कृत में लिखे गए है। बौद्ध तथा जैन धर्म के भी कई महत्वपूर्ण ग्रन्थ संस्कृत भाषा में लिखे गए हैं।


संस्कृत एक उच्च बहुमुखी भाषा है, जिसमें शब्दों की न्यूनतम संख्या का प्रयोग करके कुछ कहने की क्षमता है। संस्कृत भाषा में प्रत्येक शब्द के लिए अनेक समानार्थक शब्द है, जो प्रत्येक विशिष्ट अर्थ के साथ है।


नासा के एक बहुत ही प्रसिद्ध वैज्ञानिक रिक ब्रिग्स के एक अनुसन्धान की रिपोर्ट के बाद संस्कृत को एक अत्यधिक तकनीकी और व्यवस्थित भाषा बताया गया है। इसे कंप्यूटर के लिए भी सबसे उपयुक्त भाषाओं में से एक माना गया है क्योकिं एल्गोरिदम बनाने में संस्कृत भाषा की सबसे बड़ी शब्दावली होती है।


प्राचीन भारतीयों द्वारा संस्कृत को देवों की भाषा भी कहा जाता है। ऐसी भी मान्यता है कि संस्कृत सीखने से स्मरण शक्ति बढ़ती है और मस्तिष्क की कार्यक्षमता में भी सुधार होता है। संस्कृत सीखने से छात्र शैक्षिक रूप से भी बेहतर होते हैं। छात्रों को गणित और विज्ञान जैसे विषयों जो कि मूलतः कठिन लगते है, में भी सहायता मिलती है। गणित और विज्ञान में मदद करने के अलावा संस्कृत स्पीच थेरेपी में भी सहायक है और यह सही उच्चारण तथा बोलने के लहजे को बेहतर बनाता है।

संस्कृत की लिपि मुख्यतः देवनागरी है । हालाँकि कुछ आधुनिक भारतीय भाषाएँ जैसे, हिंदी, मराठी, बांग्ला, सिंधी, पंजाबी, आदि इसी से उत्पन्न हुई है।  भारत में  बहुत से ग्रन्थ संस्कृत भाषा में  लिखे गए हैं, जिनमें  से रामायण और महाभारत बहुत ही प्रचलित दो महाकाव्य  है।कालिदास  द्वारा भी बहुत सी रचनाएं संस्कृत में लिखी गई है, जिसमें ‘अभिग्यान्शकुन्तलम्’ तथा ‘मेघदूतं’ प्रसिद्ध रचनाएँ हैं ।

संस्कृत भाषा (Sanskrit Language) से जुड़े कुछ मत्वपूर्ण तथ्य 

1. संस्कृत भाषा का उदय प्राचीन ऋग्वेदिक काल में हुआ। इसी काल में विश्व के प्राचीन ग्रंथों ऋग्वेद , सामवेद, यजुर्वेद, तथा अथर्ववेद आदि की रचना हुई, जिसमें ऋग्वेद सबसे प्राचीनतम वेद है।

2. बहुत से  शोधों में यह पाया गया है कि संस्कृत पढ़ने से मनुष्य की स्मरण शक्ति यानि कि याद्दाश्त बढ़ती है।

3. संस्कृत भाषा मुख्यतः भारत, नेपाल, तथा इंडोनेशिया में बोली जाने वाली भाषा  है।

4. संस्कृत भाषा भारत की ही नहीं बल्कि विश्व की सबसे प्राचीनतम भाषा मानी जाती है।

5. संस्कृत व्याकरण प्रोग्रामिंग की भाषा से मिलती है, इसलिए यह कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के लिए उपयुक्त भाषा मानी जाती है।

6. अमेरिकन हिन्दू यूनिवर्सिटी के अनुसार संस्कृत बोलने से मनुष्य के शरीर की तंत्रिका तंत्र सक्रिय रहती है। संस्कृत में बात करने वाले मनुष्य को ब्लड प्रेशर, मधुमेह, कोलेस्ट्रॉल आदि रोगों की शिकायत नहीं है।

7. संस्कृत साहित्य की अधिकांश रचनाएं पद्य जबकि अन्य भाषाओं की ज्यादातर रचनाएँ गद्य में लिखे गए हैं।

8. विश्व की अन्य भाषाओं में किसी भी शब्द के एक या कुछ ही रूप हैं, परन्तु संस्कृत में प्रत्येक शब्द के अनेक पर्यायवाची शब्द होते हैं, जैसे कि अकेले हाथी के ही संस्कृत में 100 से अधिक पर्यायवाची शब्द हैं।

9. किसी भी अन्य भाषा की तुलना में संस्कृत में बहुत ही कम शब्दों में वाक्य पूरे हो जाते हैं।

10.संस्कृत एकमात्र ऐसी भाषा है जिसे बोलने के क्रम में हमारी जीभ की सभी मांशपेशियों का उपयोग है।

11.संस्कृत में शब्दों को किसी भी क्रम में रखने से उनके अर्थ में कोई भी परिवर्तन नहीं है, क्योंकि इसमें सभी शब्द विभक्ति और वचन के अनुसार हैं।

12.संस्कृत के बारे में नासा का कहना है कि 6th और 7th जनरेशन के सुपर कंप्यूटर इसी भाषा पर आधारित होंगे।

Origin and Introduction of Sanskrit Language

Sanskrit is the oldest language in the world. The Sanskrit language is an old Indo-Aryan language, which contains documents of the oldest Vedas, also known as Vedic Sanskrit. The Sanskrit language is the oldest language in India with a documented history of around 3500 years. It is also called the primary literary language of Hinduism.

The Vedic documents mainly represent dialects found in the northern central regions of the Indian subcontinent and immediately after. One of the oldest texts-including the Rigveda, was told by scholars around 1500 BC.

Sanskrit is also known as the most systematic and technical language. Originally, it is considered the mother of all languages. Some scholars believe that at least 97% of the world’s languages are affected by it. All the texts associated with Vedic religion are written in Sanskrit. Many important texts of Buddhism and Jainism have also been written in the Sanskrit language.

Sanskrit is a highly versatile language, which has the ability to say something using the minimum number of words. The Sanskrit language has many synonyms for each word, each with a specific meaning.

Some important facts related to the Sanskrit language:

1. The Sanskrit language emerged in the ancient Rigvedic period. During this period, the ancient texts of the world Rigveda, Samveda, Yajurveda, and Atharvaveda, etc were composed, in which Rigveda is the oldest Veda.

2. It has been found in many types of research that by reading Sanskrit increase the memory power of human beings.

3. The Sanskrit language is a language mainly spoken in India, Nepal, and Indonesia.

4. The Sanskrit language is considered not only in India but also the oldest language in the world.

5. Sanskrit grammar resembles the language of computer programming; hence it is considered a suitable language for computer programming.

6. According to American Hindu University, speaking Sanskrit keeps the nervous system of the human body active. Human beings talking in Sanskrit do not have complaints of diseases like blood pressure, diabetes, cholesterol, etc.

7. Most of the works of Sanskrit literature are in poetry while most of the works of other languages ​​are written in prose.

8. In other languages ​​of the world, there are one or a few variants of any word, but in Sanskrit, each word has many synonyms, such as ‘elephant’ alone has more than 100 synonyms in Sanskrit.

9. Compared to any other language, sentences are completed in very few words in Sanskrit.

10. Sanskrit is the only language that uses all the muscles of our tongue in order to speak.

11. In Sanskrit, there is no change in their meaning by placing the words in any order because all the words in it are according to Vibhakti tables and numbers.

12. Regarding Sanskrit, NASA says that the 6th and 7th generation of supercomputers will be based on this language.

You may also like to read:

Stress Free Life 14 Habits or Ideas for a Stress-Free Life

Best Kindle Books Top 10 Best Kindle Books: Bestseller books

Secret of Becoming Mentally Strong The Secret of Becoming Mentally Strong?

Best Snowmobile Goggles Top 16 Best Snowmobile Goggles

This Post Has 5 Comments

  1. Vevek Kumar Singh

    This blog makes us realise the importance of our historical language and it’s existence. Keep it up looking forward for more than from you.

  2. L. B. Singh

    संस्कृत हमारा देव भाषा है आजकल में अधिकतर लोग भूलते जा रहे है जबकि ये भाषा धरोहर हैं।

Leave a Reply